Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Thakur Gourav Singh

List of popular and best poems written by Thakur Gourav Singh

Thakur Gourav Singh
Thakur Gourav Singh
Thakur Gourav Singh

खरीद ली...

1
31 -Jan-2018 Thakur Gourav Singh Life Poem 2 Comments  905 Views
खरीद ली...

कितनो ने खरीदा सोना
हमनें एक सुई खरीद ली
सपनों को बुन सकू

आखिर कार हमे जीना आ गया...

0
30 -Jan-2018 Thakur Gourav Singh Life Poem 0 Comments  1,044 Views
आखिर कार हमे जीना आ गया...

ज़िन्दगी में चलना आ गया
तकलीफ में भी मुस्कुराना आ गया
दर्

ना जाने और क्या क्या देखना बाकी है...

1
05 -Jan-2018 Thakur Gourav Singh Life Poem 2 Comments  997 Views
ना जाने और क्या क्या देखना बाकी है...

ना जाने ज़िन्दगी किस
मोड़ पे ले आयी है
ना तजुर्बा है
ना ही ज

ज़िन्दगी ही तो है....

1
04 -Jan-2018 Thakur Gourav Singh Life Poem 2 Comments  8,732 Views
ज़िन्दगी ही तो है....

ज़िन्दगी ही तो है
थोड़ा और सीखा देगी
बहुत कुछ देखा है
थोड़ा

कभी कभी सोचता हूँ...

0
14 -Dec-2017 Thakur Gourav Singh Teacher Day Poem 1 Comments  1,638 Views
कभी कभी सोचता हूँ...

कभी कभी सोचता हूँ
दूर रहूँ अच्छे लोगों से
क्योंकि बड़ी तक

दो दोस्तों की कहानी

0
14 -Dec-2017 Thakur Gourav Singh Friendship Poems 0 Comments  2,603 Views
दो दोस्तों की कहानी

आओ तुम्हे सुनाऊं
दो दोस्तों की एक कहानी
शायद तुम्हे झूठ

देख ली...

0
09 -Dec-2017 Thakur Gourav Singh Life Poem 0 Comments  874 Views
देख ली...

देख ली है दुनिया मैंने सारी
कुछ भी बाकी नही रहा यारों
वो ह

अपने मंज़िल से मिला..

0
01 -Dec-2017 Thakur Gourav Singh Life Poem 1 Comments  836 Views
अपने मंज़िल से मिला..

गलियों से निलकर
चलते हुए में कही जा रहा था
साथ कोई नही था

आया था लाखों बहार लेके....

5
28 -Nov-2017 Thakur Gourav Singh Happy New Year Poem 2 Comments  2,763 Views
आया था लाखों बहार लेके....

आया था लाखों बहार लेके
अब चला जायेगा आंखों में आँशु देके

वो भी क्या दिन थे

0
13 -Nov-2017 Thakur Gourav Singh Childhood Poems 2 Comments  11,306 Views
वो भी क्या दिन थे

वो भी क्या दिन थे यारों
ना आज की थी फिक्र
ना ही कल का जिक्र

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017