Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Keshav

List of popular and best poems written by Keshav

Keshav
Keshav
Keshav

समय फिर करवट बदलेगा

0
28 -Jun-2021 Keshav Youngster Poems 0 Comments  160 Views
समय फिर करवट बदलेगा

समय फिर करवट बदलेगा।
तूफानों भरी यह रात बीतेगी।
संशय भरी

कहो ना प्रिय भँवर है

0
29 -Mar-2021 Keshav Motivational Poems 0 Comments  519 Views
कहो ना प्रिय भँवर है

कहो ना प्रिय भँवर है।
उड़ान को पंख नहीं है।
दूर-दूर अंबर ऊँ

सुनसान सी सङक है

0
26 -Mar-2021 Keshav Motivational Poems 0 Comments  490 Views
सुनसान सी सङक है

सुनसान सी सड़क है,मैं हूं अकेला,सफर जिन्दगी है सपनों का मेल

उदय हुआ जो पूर्वांचल में

0
26 -Mar-2021 Keshav Human Being Poems 0 Comments  585 Views
उदय हुआ जो पूर्वांचल में

उदय हुआ जो पूर्वांचल में, अस्त तो होना है, क्या-क्या खोना ह

रस भरी तेरे अंग-अंग मद भरे

0
26 -Mar-2021 Keshav Holi Poems 0 Comments  772 Views
रस भरी तेरे अंग-अंग मद भरे

रसभरी तेरे अंग-अंग मद भरे, पिया मोहे प्रीति में भीगो रंग ल

शोर सा है गली-गली

0
26 -Mar-2021 Keshav Motivational Poems 0 Comments  525 Views
शोर सा है गली-गली

शोर सा है गली-गली, पहचान बिक रहा है, सम्मान बिक रहा है।
खरी

आओ फिर से वीरों की गाथा गाएँ

0
24 -Mar-2021 Keshav Indian Freedom Fighters Poems 0 Comments  1,061 Views
आओ फिर से वीरों की गाथा गाएँ

आओ फिर से वीरों की गाथा गाएँ।
अमर प्रेम से ओतप्रोत वो संग

लेकर चल मुझे कहीं दूर

0
24 -Mar-2021 Keshav Basant Poem 0 Comments  879 Views
लेकर चल मुझे कहीं दूर

लेकर चल मुझे कहीं,दूर ख्वाब हो अपना सा,दिल की किताब हो अपन

कब तक माववता के धैर्य को तौलेगा

0
21 -Mar-2021 Keshav Motivational Poems 0 Comments  491 Views
कब तक माववता के धैर्य को तौलेगा

कब तक मानवता के धैर्य को तौलेगा

कब तक मानवता के धैर्य को

मुकम्मल सा हिसाब है

0
21 -Mar-2021 Keshav Culture Poems 0 Comments  606 Views
मुकम्मल सा हिसाब है

मुकम्मल सा हिसाब है

मुकम्मल सा हिसाब है इस कदर।
कोई नाम

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017