Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Nitish Kumar Mishra 'योद्धा युग'

Basic informations and poetry stats of Nitish Kumar Mishra 'योद्धा युग'

Nitish Kumar Mishra 'योद्धा युग'
Nitish Kumar Mishra 'योद्धा युग'
Nitish Kumar Mishra 'योद्धा युग'

Basic Info

Name: Nitish Kumar Mishra 'योद्धा युग'
Gender: Male
Birthday: 04 October
Education: Arts/Commerce/Science Graduate
Location: Jamshedpur, Jharkhand, India
Rating: 1 / 5 by 1 vote(s)

Get in touch

0 Followers

About Nitish Kumar Mishra 'योद्धा युग'

नमस्कार आप सबो को  ... मैं उतनी बड़ी शख्सियत नहीं हूँ जिसकी पहचान आप सबों से मुखातिब करुँ.. हमारे इतने बड़े लोकतांत्रिक एवं युवा देश भारत का मैं एक युवा नागरिक हूँ

मेरा पूरा नाम - नितीश कुमार मिश्रा   

पिताजी का नाम - स्वर्गीय संजय कुमार मिश्रा 

माता का नाम - श्रीमती रंजू मिश्रा 

मेरा जन्म झारखण्ड के जमशेदपुर में हुआ . शिक्षा-दीक्षा वही से हुई . पिताजी पेशे से भौतिक विज्ञान के प्रोफेसर थे . वही के ही एक निजी महाविद्यालय  में . माताजी हमारी एक शिक्षित कुशल गृहणी है वर्तमान में वह भी एक कुशल शिक्षिका है .एक बहन है जो की मुझ से छोटी है एवं कुशलतापूर्वक अपने शिक्षण कार्य में लगी हुई है. छोटा परिवार हमारा काफी खुश परिवार है .एक शिक्षित एवं संस्कारी परिवार में जन्म होना अपने आप में एक बेहद खास शोभाग्यपूर्ण अनुभव होता है . जो की हम दोनों भाई बहन को विरासत में मिली . मेरी शिक्षा स्नांतक की है एवं आगे की शिक्षा जारी है .  पिताजी का साथ हमारे साथ ज्यादा दिनों का नहीं रहे कम आयुकल में ही वो इस दुनिया से रुखसत हो गए .परन्तु शायद उनके जाने के बाद ही मैं दुनिया की सच्चाई को समझ पाया हूँ . बुजुर्गो से मुझे बेहद लगाव है क्युकी उनमे मुझे अपने नाना-नानी के अक्श नज़र आते है मुझे ऐसा लगता है की अगर भगवान अगर कही होगा तो शायद ऐसा ही होगा .  कविताओं से मेरा प्रेम बचपन से नहीं है परन्तु पिता के देहांत के बाद मेरा इससे लगाव गहरा  हो गया . रिश्तो की सच्चाई सामने आने लगी वक्त बदलने लगे हालातो से जंग शुरु हुई ..  ऐसा वक़्त भी आया जहाँ खुद को अकेला पाया . ऐसे वक़्त में कविताओं के जरिये मैं अपनी भावनाओ को व्यक्त करता था . मेरी  माताजी मेरी हिम्मत है मेरे नाना-नानी मेरी भगवान है और मेरी बहन मेरी ताक़त मेरा सब कुछ है बस इतनी छोटी सी ही मेरी दुनिया है . अपने '' भारत देश '' के प्रति एवं इनके नागरिको के प्रति गहरी संवेदना है स्नेह है ... आने वाले वक़्त में अपने वतन के लोगो के प्रति निश्चय ही कई जागरूक  कार्य करना है और करूँगा .. बस .. प्रभु हनुमान का भक्त हूँ 

मुश्किल हालात में भी सख्त हूँ 

 जय श्री राम 

भारत माता की जय 

सबों को स्नेह भरा नमस्कार 


Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017