Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Akshunya

List of popular and best poems written by Akshunya

Akshunya
Akshunya
Akshunya

एक प्रेम कहानी ऐसी भी

0
18 -Apr-2018 Akshunya Nature Poem 0 Comments  1,304 Views
एक प्रेम कहानी ऐसी भी

दूर हिम के आंचल को ओढ़े हुए पहाड़ों के बीच,
सिंधुरी उजाले न

दूरीयाँ और नजदीकियाँ

0
18 -Apr-2018 Akshunya Miscellaneous Poems 0 Comments  1,214 Views
दूरीयाँ और नजदीकियाँ

दूरीयाँ नजदीकियों में तब्दील हो जातीं हैं,
जब माँ की साँस

मेरी इज्जत का विज्ञापन

0
18 -Apr-2018 Akshunya Woman Poems 0 Comments  1,804 Views
मेरी इज्जत का विज्ञापन

आज खुद वस्तु हो गई हूँ मैं,
गली गली में विज्ञापित हो रही हू

उन्नीस सौ सात का वो दिन था

0
29 -Mar-2018 Akshunya Indian Freedom Fighters Poems 0 Comments  1,283 Views
उन्नीस सौ सात का वो दिन था

उन्नीस सौ सात का वो दिन था,
सितम्बर का वो महीना,
जब एक पंजा

बिल्ली मौसी तुम हो कैसी

0
29 -Mar-2018 Akshunya Kids Poem 0 Comments  1,835 Views
बिल्ली मौसी तुम हो कैसी

बिल्ली मौसी, तुम हो कैसी,
लगती हो बड़ी स्यानी,
याद दिलाती ह

रास्ते हैं अनेक जीवन के

1
28 -Mar-2018 Akshunya Motivational Poems 0 Comments  1,648 Views
रास्ते हैं अनेक जीवन के

यम और चित्र गुप्त बैठे थे अपने सिंहासन पर,
खोल रहे थे बही क

जीवन रेखा है कितनी छोटी

0
28 -Mar-2018 Akshunya Motivational Poems 0 Comments  1,609 Views
जीवन रेखा है कितनी छोटी

जीवन रेखा कितनी छोटी है!!!
जीवन रेखा छोटी बहुत है,
पर जाना ब

रंगमंच / Rangmanch

0
27 -Mar-2018 Akshunya Miscellaneous Poems 0 Comments  804 Views
रंगमंच / Rangmanch

शिव और शिवा दोनों बैठे थे,
द्यूत की बाजी सजी हुई थी,
दोनों

मैं हूँ कलाकार

0
21 -Mar-2018 Akshunya Profession Poems 0 Comments  3,182 Views
मैं हूँ कलाकार

मैं हूँ कलाकार,
कला से है मुझे प्यार,
करता हूँ मैं सबसे दु

डोर / dor

0
20 -Mar-2018 Akshunya Relationship Poems 0 Comments  964 Views
डोर / dor

यह डोर है प्रेम की या बंधन जीवन का,
हूँ मैं तुमसे बंधी, या य

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017