Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Piyush Raj

List of popular and best poems written by Piyush Raj

Piyush Raj
Piyush Raj
Piyush Raj

तेरे जाने के बाद.......

0
18 -Aug-2019 Piyush Raj Love Poem 0 Comments  84 Views
तेरे जाने के बाद.......

किसी और का ख्याल आया नही तेरे जाने के बाद
किसी ने फिर मुझे

कइसन बदल गईल बा अब ई जमाना रे..........

0
06 -May-2019 Piyush Raj Culture Poems 1 Comments  287 Views
कइसन बदल गईल बा अब ई जमाना रे..........

"बदल गईल बा अब ई जमाना रे...."

भोरे-भोरे सुग्गा के आवाज़ नइखे

होली से पहले पापा क्यो घर आए है......?

1
02 -Mar-2019 Piyush Raj Holi Poems 2 Comments  426 Views
होली से पहले पापा क्यो घर आए है......?

"एक सात साल का बच्चा अपनी माँ से पूछता है जब उसके पापा होली

प्यार......

0
08 -Feb-2019 Piyush Raj Love Poem 0 Comments  294 Views
प्यार......

पापा की परी माँ की दुलारी
अपने घर मे थी मैं सबकी प्यारी

बदल रहा जमाना है......

0
12 -Jan-2019 Piyush Raj Social Poems 1 Comments  652 Views
बदल रहा जमाना है......

बदल रहा जमाना है.......

रिश्तेदार ऑनलाईन हो गए
जिंदगी में सब

हाँ, हम झारखंडी है ...

1
15 -Oct-2018 Piyush Raj City Poems 0 Comments  528 Views
हाँ, हम झारखंडी है ...

_"वैसे तो हम सब हिंदुस्तानी है ,पर ये कविता इसलिए लिखा हूँ क

आज का समाज ......

0
11 -Oct-2018 Piyush Raj Social Poems 0 Comments  843 Views
आज का समाज ......

"आज के समाज में जो हो रहा है उसी को बयां करने की कोशिश ..."

उम

तुम्हे पाने की चाहत में...(मुक्तक)

0
23 -Aug-2018 Piyush Raj Love Poem 1 Comments  885 Views
तुम्हे पाने की चाहत में...(मुक्तक)

मुक्तक --2 (ऑडियो भी सुने ज्यादा आनंद आएगा)
(1)
उसे पान

पापा का प्यार ..

0
16 -Jun-2018 Piyush Raj Fathers Day Poems 0 Comments  971 Views
पापा का प्यार ..

पापा का प्यार

जिसका अंगुली थाम कर
घुमा पूरा संसार
कैसे

अपने दिल की कोई बात हो जाए...

0
08 -Jun-2018 Piyush Raj Love Poem 0 Comments  552 Views
अपने दिल की कोई बात हो जाए...

एक पल की ही सही मुलाकात हो जाए
अपने दिल की कोई तो बात हो जा

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017