Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

Laljee Thakur(haffman)

List of popular and best poems written by Laljee Thakur(haffman)

Laljee Thakur(haffman)
Laljee Thakur(haffman)
Laljee Thakur(haffman)

हक माँ को होता

0
08 -May-2016 LALJEE THAKUR(Haffman) Mothers Day Poem 0 Comments  1,589 Views
हक माँ को होता

"हक मेरी माँ को होता"

मेरी तकदीर में जख्म कोई न होता,
अगर त

उसकी ख़ुशी

0
20 -Mar-2016 LALJEE THAKUR(Haffman) Love Poem 0 Comments  927 Views
उसकी ख़ुशी

।।।।।।।।।।॥
उसकी खुशी

मेरे मन में कुछ बाते है,
जो शायद उ

दिल चीर के क्यों दिखाऊ

0
15 -Mar-2016 LALJEE THAKUR(Haffman) Bewafai Poems 2 Comments  967 Views
दिल चीर के क्यों दिखाऊ

मेरी आँखों से आँसूं गिरे कम से कम,
दो घडी को सुकून तो मिले

आत्महत्या

0
28 -Jan-2016 LALJEE THAKUR(Haffman) Motivational Poems 0 Comments  2,205 Views
आत्महत्या

           आत्महत्या

इक मनुष्य की आत्मा मिली है इसकी तू हत्

खुद ही अब इंसाफ करो

0
15 -Jan-2016 LALJEE THAKUR(Haffman) Motivational Poems 0 Comments  2,008 Views
खुद ही अब इंसाफ करो

खुद ही अब इंसाफ करो

उसके हब्सिपन के कारण बस मेरी साँसे टू

तू मेरी दिलरूबा

0
11 -Jan-2016 LALJEE THAKUR(Haffman) Bewafai Poems 0 Comments  923 Views
तू मेरी दिलरूबा

     गीत
तू मेरी दिल रुबा,
दिल रुबा दिल रुबा,

क्या करू मैं

Panne Badal Gaye

0
13 -Dec-2015 LALJEE THAKUR(Haffman) Love Poem 0 Comments  1,024 Views
Panne Badal Gaye

12 12 2015 के फ़िलबदीह से।।

अपनी नजर उठाइ दिवाने बदल गए,
दिख

मुर्खतंत्र

0
21 -Nov-2015 LALJEE THAKUR(Haffman) Politics Poem 0 Comments  1,221 Views
मुर्खतंत्र

।।।।।पहले वाले कविता को एडिट कर के नया रूप दिया और शीर्षक

आज दीवाली को

0
10 -Nov-2015 LALJEE THAKUR(Haffman) Diwali Poem 0 Comments  1,422 Views
आज दीवाली को

आज दीवाली को

मुझे मत बदअम्नी की भीड़ में धकेलो पहले,

क्यूँ छोड़ दूँ

0
09 -Nov-2015 LALJEE THAKUR(Haffman) Bewafai Poems 0 Comments  1,634 Views
क्यूँ छोड़ दूँ

।।अब क्यूँ छोड़ दूँ।।

अब तेरी झूठी कसमे खाना छोड़ दूँ,

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017