Latest poems in Hindi & English on Republic day, India Gantantra Diwas, 26 January

ताज मोहम्मद

List of popular and best poems written by ताज मोहम्मद

ताज मोहम्मद
ताज मोहम्मद
ताज मोहम्मद

कैसा शिकवा तुमसे तुमसे कैसी शिकायत।

0
20 -Dec-2021 ताज मोहम्मद Love Poem 0 Comments  59 Views
कैसा शिकवा तुमसे तुमसे कैसी शिकायत।

कैसा शिकवा तुमसे तुमसे कैसी शिकायत।
हसंकर जियेंगें तुम

वह है आईने सा।

0
20 -Dec-2021 ताज मोहम्मद Moral Education Poems 0 Comments  21 Views
वह है आईने सा।

वह है आईने सा सब को सच्चाई ही बताता है।
अक्स है जिसका जैसे

ज़िंदगियाँ बड़ी खुदगर्ज़ है।

0
18 -Dec-2021 ताज मोहम्मद Sad Poems 0 Comments  109 Views
ज़िंदगियाँ बड़ी खुदगर्ज़ है।

लोगो की ज़िन्दगियाँ बड़ी खुद गर्ज़ है।
सबको यहाँ बस अच्छे की

हर तरफ कातिलों के चेहरें है।

0
18 -Dec-2021 ताज मोहम्मद Sad Poems 0 Comments  110 Views
हर तरफ कातिलों के चेहरें है।

हर तरफ कातिलों के चेहरे है।
कहाँ जाए निगाहों के पहरे है।।

सुना है बड़े मकान है।

0
18 -Dec-2021 ताज मोहम्मद Lonely Poems 0 Comments  68 Views
सुना है बड़े मकान है।

सुना है बड़े मकान है तुम्हारें इस शहर में।
सब मकान ही है या

पत्रों वाला प्रेम।

0
18 -Dec-2021 ताज मोहम्मद Love Poem 0 Comments  106 Views
पत्रों वाला प्रेम।

अब कहां मिलता है निश्चल
मन वाला प्रेम…
वह पत्रों, खतों और

माँ तुम मुझे...

0
18 -Dec-2021 ताज मोहम्मद Mothers Day Poem 0 Comments  67 Views
माँ तुम मुझे...

माँ तुम मुझे...
बहुत याद आती हो,
आंखों में मेरे...
तुम नीर ले

हटा दो ये पर्दा चिलमन का।

0
17 -Dec-2021 ताज मोहम्मद Life Poem 0 Comments  69 Views
हटा दो ये पर्दा चिलमन का।

हटा दो ये पर्दा चिलमन का।
नज़रों को तुम्हारा दीदार तो हो ज

वह बारिश जैसी ही तो थी...

0
16 -Dec-2021 ताज मोहम्मद Love Poem 0 Comments  72 Views
वह बारिश जैसी ही तो थी...

इस वर्ष बरखा की पहली बूँदों ने
जब स्पर्श किया मेरे तन मन क

मेरे चाहने वालों की तादात ना पूँछों।

0
16 -Dec-2021 ताज मोहम्मद Juggler Poems 0 Comments  80 Views
मेरे चाहने वालों की तादात ना पूँछों।

मेरे चाहने वालों की तादात ना पूँछों।
ज़िन्दगी का मुझसे हि

Poemocean Poetry Contest

Good in poetry writing!!! Enter to win. Entry is absolutely free.
You can view contest entries at Hindi Poetry Contest: March 2017